Connect with us

Intellectual

यह तो मेरा है

Published

on

नादान हैं वो कहते हैं जो,
यह तो मेरा है,
सुंदरता पर जो हम इतरातें हैं
गोरे काले का भाव दिल में रखते हैं,
जवानी भी तेरी ढल जाएगी,
मूर्ख है गर इस पर अभिमान करतें है।।

नादान हैं वो कहते हैं जो,
यह तो मेरा है,
पैसों का जो हम राग विलास करते हैं,
किसी को ऊंचा तो किसी को नीचा गिनते हैं,
चमक में इसकी यूं खो जाते हैं,
कि हीरा भी पत्थर से निकलता है भूल जाते हैं।।

नादान हैं वो कहते हैं जो,
यह तो मेरा है,
कि सर्वव्यापी देखता है,
भेद भाव मन का फिर भी पनपता है,
दिल में घृणा है इतनी तेरे,
अपनी गरिमा को तू खुद ही खोता है।।

नादान हैं वो कहते हैं जो,
यह तो मेरा है,
कि अपनों का सुख ही उत्कृष्ट है,
सबसे उपर और हमेशा पूर्ण है,
जब अविनाशी नहीं तेरा देह भी,
तो क्या फिर संतान और कैसी मोह रिश्तों की।।

नादान हैं वो कहते हैं जो,
यह तो मेरा है,
चुनिंदा है सांसों की गिनती भी,
सीमित है उम्र की रेखा भी,
फिर कौनसा पैसा जोड़ रहा है,
आज को जी ले बेहतर थोड़ा,
पतन तो तेरा हो ही रहा है।।

नादान हैं वो कहते हैं जो,
यह तो मेरा है,
किस्मत की लकीरें एक सबक है,
कि कर्म ही तेरा गंतव्य है,
क्यों फिर भटक रहा है,
ज्ञान ही सबसे बड़ा धर्म है।।

नादान हैं वो कहते हैं जो,
यह तो मेरा है,
इस विशाल भवसागर में रहके भी,
गर खुदको थोड़ा जान गए,
समस्तरूपी आकांक्षाओं से,
थोड़ा निस्वार्थ जो हो गए,
तो ये वृद्धि भी तेरी है, ये जग भी तेरा है,
इस माया से निकलकर देखो तुम,
फिर शायद कहना ना पड़े,
कि यह तो मेरा है, कि यह भी मेरा है।।

Jahnabee is an Independent working lady, Pet lovers, travel freak, music mind, culinary explorer, an extrovert and at the very core…a poet.

Continue Reading
6 Comments

6 Comments

  1. Charu parashar

    January 12, 2021 at 7:17 PM

  2. Anonymous

    January 12, 2021 at 8:54 PM

    Well said from depth of heart.

  3. S.s

    January 13, 2021 at 10:42 AM

    Good Didi

  4. Avinash+Kumar

    January 14, 2021 at 7:47 PM

    Excellent Jahnabee…. Very true and worth accepting for all.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Like Us!