Connect with us

Social Issues

खामोशी अनकहे शोर की

Published

on

एक कहानी सी लगती है,

वो उठती है कभी और कभी ढलती है…

 

लहरों सी लगती थी चाल जिसकी,

रेंगती हुई आज वो नजर आती है

विनम्र लगती थी आवाज़ जिसकी,

आज कर्कश सी लगती है

दब गई कहीं सिमटकर,

ख़ामोश क्यों नजर आती है

एक कहानी सी लगती है,

वो उठती है कभी और कभी ढलती है।।

 

लड़खड़ाकर ज़ुबान मुझसे पूछती है,

मजबूर आंखें नम होकर देखती है

उसकी खामोशी में भी इक शोर सा है,

परेशान सी वो मुझे क्यों नजर आती है

एक कहानी सी लगती है,

वो उठती है कभी और कभी ढलती है।।

 

रात के सन्नाटे सुरक्षित नहीं,

उम्र की रेखा वाजिब नहीं

कई सवाल उठते है उसके स्वाभिमान पर,

इंसानों की बस्ती में ही इंसानियत नहीं

एक कहानी सी लगती है,

वो उठती है कभी और कभी ढलती है।।

 

खरोचा गया जिसके हर कतरे को,

चोट पहुंची उसके हर अहम को

इज्ज़त ही क्यों उसका एक मात्र गहना,

सतीत्व से ही क्यों उसे आत्मसम्मान मिलता

ढह रहा अहंकार हमारे इंसान होने पर,

जननी जल रही बेकदर

हाथ में मोमबत्ती लिए,

वो शैतान है सबके घर

एक कहानी सी लगती है,

वो उठती है कभी और कभी ढलती है।।

 

महिला सशक्तिकरण से क्या होगा,

कौमार्य ही नहीं सिर्फ,

अंग अंग उसका नाश होता,

दबाके गला उसके अरमानों का,

फिर हमें होश क्यों आता,

दरकार है इस समाज को,

पुरूषार्थ को समझाने की,

मिट रही जो हर दिन जलकर,

घर का दीया उसे बनाने की,

 

 

एक कहानी सी लगती है,

वो उठती है कभी और कभी ढलती है।।

Jahnabee is an Independent working lady, Pet lovers, travel freak, music mind, culinary explorer, an extrovert and at the very core…a poet.

Continue Reading
14 Comments

14 Comments

  1. Anonymous

    December 26, 2019 at 6:23 PM

    The best description of the Pain…. Really touching.. Keep writing

    • Jahnabee

      December 26, 2019 at 6:35 PM

      Thankew so much..keep blessing

  2. Tarun kumar Nath

    December 26, 2019 at 6:39 PM

    SO NICE

  3. Shantanu

    December 26, 2019 at 7:38 PM

    Ek number. Waaah kya shiddat hai lyrics me..

  4. vickrant sharma

    December 26, 2019 at 10:22 PM

    Heart touching Jahnbee

    • Jahnabee

      December 26, 2019 at 10:30 PM

      Thankew so much vickrant

  5. Sudeep Kochar

    December 26, 2019 at 11:09 PM

    Beautiful expression of thoughts. Well done. Keep it up.

    • Jahnabee

      December 27, 2019 at 6:48 AM

      Thankew so much Bhabhiji..

  6. Gurbhej Singh

    December 27, 2019 at 1:53 PM

    Really Heart Touching !!!!
    So happy for you for such a beautiful thoughtful mind.

    • Jahnabee

      December 28, 2019 at 1:38 PM

      Thankew so much Gurbhej..keep blessing me.

  7. Mandeep Singh

    December 27, 2019 at 10:51 PM

    Nice

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Like Us!